एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट

एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट

अवैध मानव व्यापार निवारण इकाई (AHTU) का गठन गृह मंत्रालय भारत सरकार नई दिल्ली आदेश संख्याः.15020/8/2007 एटीसी दिनांक 16/06/2010 तथा पुलिस महानिदेशालय उ0प्र0 लखनऊ आदेश संख्याः एडीजी.सत.एस. 3(190)2010 दिनांक 01.09.2010 व पुलिस महानिरीक्षकध्वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक लखनऊ आदेश संख्याः व.179/2010 दिनांक 29/11/2010 के अनुसार किया गया । यह इकाई संयुक्त पुलिस आयुक्त, कानून एवं व्यवस्था के कार्यालय में स्थित है । अवैध मानव व्यापार निवारण इकाई (AHTU) अपराध शाखा के अन्तर्गत कार्य करता है । इस इकाई का पर्यवेक्षण DCP CRIME, ADCP CRIME व ACP CRIME द्वारा किया जाता है ।

03 वर्ष से 08 वर्ष तक की आयु के गुमशुदा बच्चो की बरामदगी यदि 04 माह तक नही होती है तो ऐसे अभियोगो की विवेचना इस इकाई द्वारा सम्पादित किये जाने का प्रावधान है ।
इस इकाई द्वारा श्रम विभाग व चाइल्ड लाइन की सूचना के आधार पर 16 वर्ष से कम आयु के बच्चों को रेस्क्यू किया जाता है ।

इस इकाई द्वारा जनपद में धारा 370 भादवि व अनैतिक व्यापार रोकथाम अधिनियमए बालश्रम, भिक्षावृत्ति, बंधुवा मजदूर से सम्बन्धित सूचनाओं को एकत्र कर सम्बन्धित उच्चाधिकारियों को प्रेषित की जाती है ।

इकाई द्वारा प्रत्येक माह मे बाल श्रम व चाईल्ड लाईन के साथ गोष्ठी की जाती है तथा समय.समय पर बच्चों से सम्बन्धित कार्यशालाओं के आयोजन मे भाग लिया जाता है व समय.समय पर थानों में नियुक्त बाल कल्याण अधिकारी की बैठक करायी जाती है ।

बाल संरक्षण आयोग नई दिल्ली से प्राप्त प्रार्थना पत्रों की जाँच करके कृत कार्यवाही सम्बन्धी आख्या आयोग को प्रेषित करना ।